अपर्णा यादव भाजपा में हुईं शामिल, योगी ने अखिलेश यादव को दिया बड़ा झटका

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से पिछड़ा वर्ग के कई नेताओं को तोड़कर ताकत बढ़ने का संदेश दे रहे समाजवादी पार्टी (एसपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को सत्ताधारी दल ने बुधवार को बड़ा झटका दिया। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव आज डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल हो गईं। कुछ दिन पहले सपा संरक्षक के समधी हरिओम यादव भाजपा का दामन थाम चुके हैं।

दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुईं। अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने पर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मुलायम सिंह की पुत्रवधू होने के बावजूद भी अपर्णा यादव ने अपने विचार रखे हैं। काफी दिनों की चर्चा के बाद उन्होंने भाजपा में शामिल होने का फैसला लिया।

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने के बाद अपर्णा यादव ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का धन्यवाद करती हूं। उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और अनिल बलूनी  का धन्यवाद करती हूं। मैं प्रधानमंत्री जी से पहले से ही प्रभावित रहती थी, मेरे लिए सर्वप्रथम राष्ट्र है। अब मैं राष्ट्र की अराधना के लिए निकली हूं। इसमें आपका सभी का सहयोग अनिवार्य है। यही कहूंगी कि जो भी कर सकूंगी अपनी क्षमता से करूंगी।

उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव से पहले राज्य के दोनों प्रतिद्वंद्वी दलों सपा और भाजपा के बीच नेताओं के दलबदल के इस दौर में अपर्णा के भाजपा में शामिल होने को चुनावी राजनीति के लिहाज से अहम माना जा रहा है। हाल ही में योगी सरकार के तमाम मंत्रियों और विधायकों के सपा में शामिल होने से हुए सियासी नुकसान की भरपाई के लिए भाजपा ने सपा प्रमुख के घर में बड़ी सेंधमारी की है। अपर्णा यादव मंगलवार देर शाम ही लखनऊ से दिल्ली आ गई थीं। माना जा रहा है कि अपर्णा को भारतीय जनता पार्टी लखनऊ कैंट सीट से पार्टी का उम्मीदवार बना सकती है। वह इस सीट पर समाजवादी पार्टी की उम्मीदवार के रूप में पिछला चुनाव लड़ चुकी हैं। उन्हें भाजपा की रीता बहुगुणा जोशी ने हराया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.