सरेंडर करने जा रहे अंकित दास और गनर को पुलिस ने उठाया, सुबह ही घर पर चस्‍पा की थी नोटिस

खबरे सुने

लखनऊ। लखीमपुर खीरा कांड में आरोपित पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास के भतीजे अंकित दास के लखनऊ के सदर पुराना किला स्थित आवास पर एसआइटी ने सफीना नोटिस चस्पा किया था। एसआइटी ने अंकित दास को बुधवार को लखीमपुर स्थित क्राइम ब्रांच के दफ्तर में बयान दर्ज कराने का आदेश दिया है। इस बीच अंकित दास लखीमपुर खीरी पहुंचें। उन्‍होंने एसआइटी के सामने सेरेंडर किया। जिसके बाद उन्‍हें और उनके ड्राइवर लतीफ को गिरफ्तार कर लिया गया। उनसे पुलिस लाइन स्थित क्राइम ब्रांच के दफ्तर में पूछताछ की जा रही है। एसआइटी उनके ड्राइवर लतीफ से भी पूछताछ कर रही है। लखीमपुर हिंसा में अब तक मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा मोनू के बाद उसके मित्र अंकित दास के ड्राइवर शेखर भारती को एसआइटी ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा केस में किसानों ने आशीष मिश्रा मोनू के साथ अज्ञात 15 लोगों को नामजद किया है।

ड्राइवर शेखर भारती पर बहस पूरी: इसी बीच लखीमपुर हिंसा कांड के आरोपित अंकित दास के ड्राइवर शेखर भारती को कोर्ट में पेश किया गया है। सीजेएम ने पुलिस कस्टडी रिमांड पर सुनवाई की, अभियोजन पझ से एसपीओ एसपी यादव व अभियुक्त की तरफ से अवधेश कुमार सिंह ने मामले में बहस की। दोनों पक्षों की तरफ से बहस हो चुकी है और फैसला सुरक्षित रखा जा चुका है।  इसी बीच लखीमपुर में लखनऊ हाई कोर्ट से काफी संख्‍या में अधिवक्ताओं की फौज पर आई है। 25 से ज्यादा अधिवक्ता लखीमपुर पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि यह सब अंकित दास को आत्मसमर्पण करने के लिए आए हैं। खबर मिल रही है कि अंकित दास को एसआईटी के प्रभारी डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल के सामने सीधे लाया जा सकता है, लेकिन अभी इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है।

लखीमपुर कांड में मारे गए चार किसानों के मामले में अंकित के खिलाफ साजिश, हत्या, गैर इरादतन हत्या, बलवा समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज है। मामले में अंकित के कार चालक शेखर को एसआइटी ने पलिया बस स्टैंड से मंगलवार को गिरफ्तार किया था। बताया जा रहा है कि वह नेपाल भागने की फिराक में था। एसआइटी ने शेखर को कोर्ट में पेश करने के बाद न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था। वहीं, मामले में अंकित दास फरार चल रहे हैं।

अंकित दास ने डाली थी आत्मसमपर्ण अर्जी: खीरी कांड में आरोपित अंकित दास और लतीफ ने न्यायालय में आत्मसमपर्ण की अर्जी डाली थी। कोर्ट ने इस मामले में थाना तिकुनिया से रिपोर्ट भी तलब की है और वहीं अर्जी पर सुनवाई की तारीख 14 अक्टूबर तय की है।

अंकित दास के घर पर मिले सिर्फ सुरक्षा कर्मी: अंकित दास के घर पर सफीना नोटिस चस्पा होने के बाद बुधवार को उनके घर पर सन्नाटा छाया रहा। वहां सिर्फ सुरक्षा कर्मी और चालक के अलावा कोई नहीं था। इसके उनके सुरक्षा कर्मियों ने बताया कि घर पर कोई नहीं है। ताला लगा है। घर के लोग कहां हैं इस बारे में भी उन्होंने कुछ जानकारी नहीं दी। वहीं, पूरे मोहल्ले में सन्नाटा पसरा रहा। आस पड़ोस के लोग छतों से नगर रखे थें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.