स्थानीय दावेदारों के बागी तेवरों के बाद भाजपा ने डोईवाला में गैरोला को बनाया उम्मीदवार

देहरादून। बीजेपी ने देहरादून जिले की डोईवाला सीट से भी उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है. यहां से बृजभूषण गरोला को मैदान में उतारा गया है। यह सीट पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह की है। पहले माना जा रहा था कि दीप्ति रावत भारद्वाज को यहां से उम्मीदवार बनाया जाएगा।

डोईवाला सीट पर नजर डालें तो उत्तराखंड राज्य बनने के बाद से ही यह भाजपा का गढ़ रहा है। 2002 और 2007 के विधानसभा चुनावों में त्रिवेंद्र सिंह रावत विजयी हुए थे। हालांकि 2002 के चुनाव में उनकी जीत का अंतर 1536 वोटों का था, लेकिन 2007 के चुनाव में यह अंतर बढ़कर 14,127 वोट हो गया। 2012 के चुनावों में, त्रिवेंद्र को पार्टी ने रायपुर सीट से लड़ा था, जबकि भाजपा ने डोईवाला सीट से डॉ रमेश पोखरियाल निशंक को मैदान में उतारा था। निशंक ने चुनाव जीतकर लगातार तीसरी बार बीजेपी की झोली में जीत दर्ज की.

वर्ष 2014 में, पार्टी ने फिर से डोईवाला सीट पर त्रिवेंद्र को मौका दिया, जो निशंक के लोकसभा चुनाव लड़ने के बाद खाली हो गई थी, लेकिन वह कांग्रेस उम्मीदवार हीरा सिंह बिष्ट से चुनाव हार गए। 2017 के चुनाव में त्रिवेंद्र ने इस सीट को वापस पार्टी के खाते में ला दिया.

त्रिवेंद्र मुख्यमंत्री बने और यह सीट बेहद खास कैटिगरी में आ गई। अब जबकि त्रिवेंद्र ने 2022 में चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है, तो पार्टी असमंजस में है कि डोईवाला में किस चेहरे पर खेलना है। अब पार्टी ने इस सीट के लिए बृज भूषण गरोला पर दांव खेला है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.