सीएम नीतीश कुमार दहेज के खिलाफ बेहद गंभीर 40 DSP से लिखवाया शपथ पत्र

खबरे सुने

पटना. बिहार के सीएम नीतीश कुमार दहेज प्रथा को एक अभिश्राप मानते हुए हो गए दहेज के खिलाफ बिहार पुलिस को पिछले दिनों ही 40 नए पुलिस उपाधीक्षक (DSP) मिले हैं.बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) द्वारा आयोजित 64वीं संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा में चयनित इन 40 डीएसपी के प्रमाण पत्र की जांच के बाद इनकी नियुक्ति के आदेश भी जारी कर दिए गए हैं. इसके साथ ही बिहार सरकार ने सभी पुरुष और महिला डीएसपी को एक शपथ पत्र भरने को कहा है. इस शपथ पत्र में सभी डीएसपी को भरना होगा कि वह न तो एक रूपया दहेज लेंगे और न ही एक रुपये दहेज देंगे. इस शपथ पत्र में साफ-साफ लिखा गया है कि अगर दहेज से संबंधित कोई भी आरोप लगते हैं तो बिहार सरकार को आपको नौकरी से बर्खास्त करने का पूरा अधिकार होगा. इन 40 डीएसपी में से 13 महिला डीएसपी हैं.
बता दें कि बुधवार को गृह विभाग की आरक्षी शाखा ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है. गृह विभाग ने निर्देश दिया है कि सभी अभ्यर्थियों को स्वास्थ्य प्रमाण-पत्र, चल-अचल संपत्ति की विवरणी, पासपोर्ट साइज की दो तस्वीरों के साथ दहेज नहीं लेने और देने संबंधी घोषणा पत्र अनिवार्य रूप से भरना होगा.
नए डीसपी पर नीतीश सरकार की सख्ती
बिहार सरकार के दहेज संबंधी घोषणा पत्र में साफ लिखा गया है कि अगर आपके खिलाफ दहेज संबंधी कोई भी शिकायत विभाग या न्यायालय में दर्ज कराई जाती है तो नियुक्ति समाप्त करने का बिहार सरकार को पूर्ण अधिकार होगा. इसलिए अगर इन डीएसपी की नियुक्ति के बाद दहेज संबंधी किसी भी तरह की शिकायत की जांच की जाएगी और दोषी करार दिए जाने पर नौकरी समाप्त कर दिया जाएगा.
दहेज में एक भी रुपये लिया तो जाएगी नौकरी
बिहार सरकार के गृह विभाग के इस आदेश में कहा गया है कि सभी अभ्यर्थियों को योगदान देने के समय डॉक्टर द्वारा निर्गत मेडिकल सर्टिफिकेट, चल और अचल संपत्ति का पूरा ब्यौरा और पासपोर्ट साइज का लेटेस्ट फोटो देना होगा. साथ ही कहा गया है कि ये सभी अपनी या बेटा या बेटी की शादी में दहेज न ही लेने और न ही देने संबंधी घोषणा पत्र भी अनिवार्य रूप से लिखना होगा
गौरतलब है कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार दहेज को लेकर काफी सख्ती बरतते हैं. यह सरकारी कामकाज में भी दिखता है. नीतीश कुमार शराबबंदी अभियान के बाद दहेज प्रथा के खिलाफ भी विशेष अभियान चला रखा है. नीतीश कुमार बिहार में दहेज प्रथा को रोकने के लिए कई कड़े फैसले लिए हैं. नीतीश कुमार अक्सर कहते रहते हैं कि दहेज एवं बाल विवाह एक बड़ी सामाजिक कुरीति है, जिसे जड़ से मिटाना जरूरी है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.