एक्टर कमाल राशिद के हिंदुत्ववादी संगठनों पर निशाना साधने से हुआ बवाल

खबरे सुने

बॉलीवुड एक्टर कमाल राशिद खान के एक ट्वीट से काफी हंगामा खड़ा हो गया है उन्हें अप्रत्यक्ष रूप से बीजेपी पर निशाना साधा है। हिंदुत्ववादी संगठनों पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा है कि भारत के प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, राष्ट्रपति सभी हिंदू हैं, सभी सरकारी एजेंसियों के चीफ हिंदू हैं, 90 प्रतिशत मंत्री हिंदू हैं फिर भी हिंदुओं को खतरे में बताया जाता है।कमाल राशिद खान ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में ये बातें कही हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘भारत का प्रधानमंत्री हिंदू है। गृह मंत्री हिंदू है। राष्ट्रपति हिंदू है। RAW चीफ हिंदू है। NIA चीफ हिंदू है। ED चीफ हिंदू है। IT डिपार्टमेंट चीफ हिंदू है। ED चीफ हिंदू है। मिलिट्री चीफ हिंदू है। 90 प्रतिशत मंत्री हिंदू हैं। फिर भी हिंदू खतरे में हैं।’
‘हिंदू खतरे में हैं’ इस बात को लेकर कुछ दिनों पहले सुचना के अधिकार के तहत केंद्रीय गृह मंत्रालय से सवाल भी पूछा गया था। RTI के तहत सरकार से सवाल किया गया था, ‘देश में हिंदू धर्म के खतरे को लेकर क्या सबूत हैं?’ गृह मंत्रालय ने जवाब में कहा था, ‘हिंदू धर्म के लिए खतरा महज एक काल्पनिक बात है। इससे संबंधित कोई सबूत नहीं है।’
बहरहाल, केआरके के ट्वीट पर ट्विटर यूजर्स भी अपनी राय दे रहे हैं। इनायत हुसैन नाम के एक यूजर ने एक्टर को जवाब दिया, ‘ये खतरा केवल और केवल 2014 के बाद शुरू हुआ। मुग़ल, अंग्रेज और कांग्रेस शासन में ये नहीं था।’ रोहन कन्हाई नाम के एक यूजर ने केआरके को जवाब दिया, ‘बीजेपी और उसके लोगों की राजनीति खतरे में है। बाकी देश में सभी लोग सुरक्षित थे और आगे भी रहेंगे।’
कृष्णा डांगी नाम के एक यूजर ने कमाल खान की बातों से असहमति जताते हुए लिखा, ‘सर पाकिस्तान में कौन हिंदू बड़े पद पर कार्यरत है जरा बताइए? वैसे इंडिया में क्रिकेट टीम में भी मुस्लिम खिलाड़ी खेलते हैं लेकिन आज तक पाकिस्तान ने किसी हिंदू खिलाड़ी को अपनी टीम में जगह नहीं दी है। और रही बात हिंदुओं के पद पर रहने के तो सर जो काबिल होगा वही पद पर बैठेगा हर कोई नहीं।’
चैतन्य बाथेजा नाम के एक यूजर ने लिखा, ‘क्या प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, राष्ट्रपति और बाकी लोगों ने कभी कहा कि हिंदू खतरे में हैं? आपने सभी को एक ही चश्मे से देखा।’

Leave A Reply

Your email address will not be published.