Home उत्तर प्रदेश पीजेंट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन अशोक बालियान के साथ किसानों का एक...

पीजेंट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन अशोक बालियान के साथ किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल केन्द्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान से मिला

राजसत्ता पोस्ट

पीजेंट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन अशोक बालियान के साथ किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल केन्द्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान से मिला-अशोक बालियान
जनपद मुज़फ्फरनगर में मदर डेयरी का केले व् अन्य फल-सब्जियों का खरीद सेंटर खुलवाने के लिए दिनांक 08 नवम्बर 2020 को किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल माननीय डॉ संजीव बालियान,केन्द्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन राज्य मंत्री, भारत सरकार से उनके मुज़फ्फरनगर निवास पर मिला। इस प्रतिनिधि मंडल में पीजेंट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन अशोक बालियान, राजीव चौधरी पीनना, पवन राठी, शौकेंद्र व् लोकेन्द्र शाहपुर, संदीप देशवाल सलाजुड्डी, हर्ष भारसी, रामबीर सिंह बामडोली, विपुल रहमतपुर, जुलकरन कासमपुर खेडी, सतीश त्यागी चौबली सहित अनेकों किसान थे।

पीजेंट वेलफेयर एसोसिएशन के चेयरमैन अशोक बालियान ने केन्द्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान को बताया कि जनपद मुज़फ्फरनगर के फल व सब्जी के उत्पादक किसान चाहते है कि यहाँ के किसान फल व सब्जी के क्षेत्र में आधुनिक खेती से जुड़ रहे है, इसलिए मदर डेयरी का एक सेंटर यहाँ स्थापित होना चाहिए। मदर डेयरी दूध व डेयरी प्रॉडक्ट्स के अलावा दिल्ली-एनसीआर में ‘सफल’ आउटलेट्स के जरिए ताजे फल व सब्जी की बिक्री करती है।
केन्द्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान से वार्ता में अशोक बालियान ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा गन्ने से बनने वाले उत्पाद गुड़-शक्कर व् खांडसारी का न्यूनतम बिक्री मूल्य (एमएसपी) तय करना चाहिए। ताकि गन्ना किसानों को कोल्हू व् क्रेशर पर भी उचित मूल्य मिल सके।हमने केरल राज्य की तरह उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्य फल- सब्ज़ी का न्यूनतम बिक्री मूल्य तय करने की बात भी रखी।


केन्द्रीय मंत्री डॉ संजीव बालियान ने कहा कि हम दिल्ली जाकर उपरोक्त सभी पर समुचित कार्यवाही करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि उपरोक्त विषय किसान हित में है और हम अति शीघ्र मदर डेयरी का एक सेंटर जनपद मुज़फ्फरनगर में खुलवाने के लिए उचित कदम उठायेगे तथा गन्ने से बनने वाले उत्पाद गुड़-शक्कर व् खांडसारी का न्यूनतम बिक्री मूल्य (एमएसपी) तय करने के लिए भी प्रधानमंत्री से सामने इस विषय को रखेंगे। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्य फल व सब्ज़ियों का न्यूनतम बिक्री मूल्य तय करने के विषय में कहा कि हम प्रदेश के मुख्य मंत्री से इस विषय में बात रखेंगे।