Home खेल 87 साल पहले इस खिलाड़ी ने ‘अखंड भारत’ के लिए शतक ठोककर...

87 साल पहले इस खिलाड़ी ने ‘अखंड भारत’ के लिए शतक ठोककर रचा था इतिहास

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज लाला अमरनाथ ने आज से ठीक 87 साल पहले वो कमाल करके दिखाया था, जो महीनों तक किसी भी बल्लेबाज से नहीं हुआ था। जी हां, भारतीय टीम के लिए लाला अमरनाथ ने वो कमाल किया था जो उनसे पहले कोई भी भारतीय बल्लेबाज नहीं कर सका था। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ मुंबई के मैदान पर भारत की ओर से पहला टेस्ट शतक ठोका था। ये उनका डेब्यू मैच था। हालांकि, भारत की टीम ने कुछ ही समय पहले टेस्ट क्रिकेट खेलना शुरू किया था, लेकिन उस समय भारत अखंड भारत के नाम से जाना जाता था।

दाएं हाथ के बल्लेबाज लाला अमरनाथ भारत की ओर से पहला शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी तो बने ही थे। साथ ही साथ वे डेब्यू टेस्ट मैच में भी भारत की तरफ से शतक जड़ने वाले खिलाड़ी बने थे। हालांकि, भारतीय टीम ये मुकाबला 9 विकेट से हार गई थी, लेकिन बल्लेबाज लाला अमरनाथ ने दूसरी पारी में जो 118 रन बनाए, उसने साबित कर दिया था कि ये बल्लेबाज थोड़ा अलग है। हैरान करने वाली बात ये है कि फिर अमरनाथ से कभी भी टेस्ट क्रिकेट में शतक नहीं जड़ा गया था।

आजाद भारत के पहले कप्तान भी थे अमरनाथ

11 सितंबर 1911 को पंजाब के कपूरथला में जन्मे लाला अमरनाथ का नाम पहले नानिक अमरनाथ भारद्वाज था। लाला अमरनाथ ने पहला शतक जड़ने का ही कमाल नहीं किया था, बल्कि आजाद भारत के पहले कप्तान के तौर पर भी उनको जाना जाता है। आजादी के बाद पहली बार कप्तान के तौर पर मैदान पर उतरे लाला अमरनाथ ने सबसे पहले पाकिस्तान को मात दी थी।

इंग्लैंड की टीम दिसंबर 1933 में तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने के लिए भारत दौरे पर आई थी। इसी सीरीज के पहले टेस्ट मैच में अमरनाथ ने दूसरी पारी में शतक जड़ा था। ये मुकाबला मुंबई (तब बॉम्बे) के ओल्ड जिमखाना स्टेडियम में खेला गया था, जिसमें उन्होंने 21 चौकों की मदद से 118 रन की शानदार पारी खेली थी। लाला अमरनाथ उस जमाने के स्टाइलिश बल्लेबाजों की लिस्ट में शुमार थे।

हालांकि, विदेशी सरजमीं पर भारत के लिए टेस्ट मैच में पहला शतक ठोकने के कमाल सैयद मुश्ताक अली ने किया था, जिनके नाम पर भारतीय क्रिकेट बोर्ड अब हर साल टी20 टूर्नामेंट का आयोजन कराता था। मुश्ताक अली ने मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ 25 जुलाई 1936 को 17 चौकों की मदद से 112 रन की पारी खेली थी।

5 अगस्त 2000 को आखिरी सांस लेने वाले लाला अमरनाथ ने भारत के लिए कुल 24 टेस्ट मैच खेले थे, जिसमें उन्होंने पहले ही टेस्ट मैच में शतक जड़ा था और फिर उन्होंने 5 अर्धशतक जड़े, लेकिन तीन अंकों के स्कोर तक नहीं पहुंच पाए। उन्होंने 24 मैचों की 40 पारियों में 24.38 की औसत से कुल 878 रन बनाए थे। हालांकि, फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लाला अमरनाथ के नाम 10 हजार से ज्यादा रन और 463 विकेट दर्ज हैं। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 45 विकेट चटकाए हैं।