शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान छात्रों के लिए कही ये बात 
छात्रों के लिए शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान कही ये बात
नई दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय निपुण भारत मिशन के तहत एक संवादात्मक पुस्तिका लेकर आया है। इस पुस्तिका में क्यू आर कोड वाले वीडियो है। गुरुवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने यह जानकारी साझा की।

शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि नई शिक्षा नीति मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है। शिक्षा मंत्री ने बताया कि निपुण भारत मिशन ने हाल ही में आधारभूत कौशल के सार्वभौमिक अधिग्रहण पर ध्यान केंद्रित किया है। 2026-27 तक ग्रेड 3 के अंत में सभी बच्चों द्वारा समझ के साथ पढ़ने और बुनियादी गणित की समस्याओं को हल करने की क्षमता विकसित की जाएगी।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2026-27 तक प्रत्येक बच्चे को कक्षा 3 तक मूलभूत साक्षरता एवं संख्या ज्ञान उपलब्ध करवाने का विजन दिया है। इस विजन को पूरा करने के लिए निपुण भारत नामक राष्ट्रीय मूलभूत साक्षरता एवं संख्या ज्ञान मिशन शुभारंभ किया गया है।

निपुण भारत मिशन में प्री-स्कूल से लेकर कक्षा 3 तक के 3 से 9 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों पर फोकस किया जाएगा। कक्षा 4 एवं 5 के उन बच्चों को अतिरिक्त शिक्षा सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी जिन्हें बुनियादी कौशल प्राप्त नहीं हो सका है।

साक्षरता और संख्या ज्ञान के महत्व को समझाते हुए शिक्षा मंत्रालय ने कहा कि साक्षरता और संख्यात्मक कौशल की अच्छी बुनियाद सीनियर कक्षाओं में बच्चे की पढ़ाई पर सकारात्मक प्रभाव डालती है।

यह शिक्षा में बच्चे की रुचि भी विकसित करती है। देश के सभी बच्चों में इसकी बुनियादी समझ विकसित करने के लिए प्रधानमंत्री ने पिछले साल सितंबर में शिक्षक पर्व पर अपना विजन साझा किया था।

निपुण भारत दिशा-निदेशरें को लागू करने के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों और शिक्षकों की सहायता और सलाह देने के लिए दीक्षा के तहत विकसित एफएलएन संसाधनों के लिए एक अलग संरेखण के तहत निपुण भारत एफएलएन उपकरण और संसाधन उपलब्ध कराए गए हैं। इस में शिक्षकों की सुविधा के लिए सीखने के परिणामों और मूल्यांकन उपकरण पर इन्फोग्राफिक्स और वीडियो उपलब्ध हैं।
 

Share this story