विधानसभा चुनाव, तालिबान और किसानों के मुद्दे पर हो सकती है आरएसएस की कोआर्डिनेशन मीटिंग में चर्चा
आरएसएस की कोआर्डिनेशन मीटिंग
नागपुर/नई दिल्ली। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की नागपुर में दो दिवसीय समन्वयक बैठक आज से शुरू हो रही है। आरएसएस से जुड़े तीन दर्जन से अधिक सहयोगी संगठनों और भाजपा के शीर्ष पदाधिकारियों की मौजूदगी में होने जा रही इस बैठक में देश और दुनिया के ज्वलंत मुद्दों पर भी चर्चा होगी। इस बैठक का मुख्य एजेंडा, संघ के सभी सहयोगी संगठनों के बीच आपसी तालमेल को बेहतर कर भविष्य के हर लक्ष्य को हासिल करने का है। संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, सहकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले की प्रमुख उपस्थिति में होने वाली इस बैठक में अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गुजरात और गोवा विधानसभा चुनाव में संघ और उससे जुड़े संगठनों की रणनीति बनने की संभावना है। इस बैठक में इन चुनावों में भाजपा के सहयोग के लिए सभी अनुषांगिक(सहयोगी) संगठनों से अपील की जा सकती है। देश में पिछले काफी समय से किसान आंदोलन चल रहा है। पंजाब, हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश में किसान नेताओं के प्रभाव वाले इलाकों में इस आंदोलन का असर महसूस किया जा रहा है। ऐसे में आरएसएस की इस समन्वय बैठक में किसानों से जुड़े मुद्दों और उनकी नाराजगी दूर करने को लेकर भी चर्चा होने की संभावना है।

आरएसएस को सबसे ज्यादा फिक्र देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश की है। यही वजह है कि इससे पूर्व जुलाई और अगस्त में राजधानी लखनऊ में प्रांत स्तरीय दो समन्वय बैठक हो चुकी है। जिसमें भाजपा संगठन और सरकार में शामिल मंत्रियों और सहयोगी संगठनों के पदाधिकारियों के बीच चुनाव को लेकर बेहतर तालमेल के साथ काम करने पर जोर दिया गया है। सूत्रों का कहना था कि अब नागपुर में होने वाली इस दो दिवसीय बैठक में सभी पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की रणनीति और राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा होगी।

नागपुर के आरएसएस विचारक दिलीप देवधर ने आईएएनएस से कहा, संघ की नागपुर में होने वाली समन्वय बैठक बहुत महत्वपूर्ण है। संघ, तालिबान के उदय को विश्व और भारत में शांति के लिए शुभ संकेत नहीं मानता। इस बैठक में तालिबान के मुद्दे पर भी चर्चा की संभावना है। किसानों से जुड़े मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है।

उधर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील आंबेकर ने बैठक के सिलसिले में जारी एक बयान में कहा, नागपुर में, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की छोटी सामान्य अनौपचारिक समन्वय बैठक 3-4 सितंबर 2021 को हो रही है। वैसे हर वर्ष सितंबर में एक व्यापक बैठक होती है परंतु कोरोना की परिस्थिति में पिछली बार छोटी बैठक हुई थी और इस वर्ष भी छोटी बैठक ही हो पा रही है। इसमें संघ के कुछ अखिल भारतीय अधिकारी एवं कुछ विविध संगठन जैसे विश्व हिंदू परिषद, विद्यार्थी परिषद, भारतीय मजदूर संघ, विद्याभारती, आदि के अखिल भारतीय संगठन मंत्री उपस्थित रहेंगे। कोरोना की परिस्थिति सामान्य होने पर संभवत: अगले वर्ष के प्रारंभ में व्यापक बैठक होगी।

Share this story