15 अगस्त से पहले दिल्ली में हो सकता है ड्रोन हमला

k

नई दिल्ली:  स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर भारत के खूफिया विभाग ने दिल्ली पुलिस को अलर्ट जारी किया है। जम्मू और उत्तर प्रदेश में आतंकी वारदात अंजाम देने में नाकाम रहे दहशतगर्द अब देश की राजधानी को दहलाने की बड़ी योजना बना रहे हैं।

खुफिया विभाग से मिले ऐसे ही इनपुट की खबर 14 जुलाई को भी प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इसके अनुसार, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई दिल्ली सहित देश के मेट्रो शहरों समेत कई शहरों पर हमला करा सकती है। आतंकियों को मानव बम बनाकर या फिर टारगेट किलिंग के जरिए वारदातों को अंजाम दिया जा सकता है।

देश के खुफिया विभाग व दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को इस तरह के इनपुट्स मिले हैं। इस तरह के इनपुट्स के बाद दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। दिल्ली में कई जगहों पर अर्धसैनिक बलों को तैनात कर दिया गया है।

दिल्ली पुलिस की आतंकी निरोधी सेल स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लाहौर के जौहर हाउस में राजस्व बोर्ड हाउसिंग सोसाइटी में देश के सबसे बड़े दुश्मन हाफिज सईद के आवास के बाहर 23 जून को बम धमाका हुआ था। इस धमाके से भारत का कोई लेना-देना नहीं है।

मगर आईएसआई व हाफिज सईद इस धमाके का बहाना बनाकर आतंकी हमला करवा सकते हैं। आईएसआई आतंकियों को मानव बम या फिर टॉरगेट किलिंग करवा सकती है।

इनपुट्स में कहा गया है कि देश की महत्वपूर्ण इमारत व भीड़भाड़ वालों जगहों को निशाना बताया जा सकता है। भीड़भाड़ जगहों पर छोटे-छोटे बम धमाके करवाए जा सकते हैं।
देश के मेट्रो शहरों में ड्रोन से हमला करवाया जा सकता है
देश के मेट्रो शहरों में ड्रोन से हमला करवाया जा सकता है। ये भी इनपुट्स मिले हैं कि आईएसआई ने इसके लिए रणनीति तैयार कर ली है और देश में स्लीपर सेल व गैंगस्टर का आतंकी वारदातों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

खुफिया विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जम्मू में ड्रोन हमला व लखनऊ , यूपी से पकड़े आतंकियों को हाफिज सईद के आवास पर हुए बम धमाके के बदले के रूप में देखा जा रहा है। दिल्ली पुलिस आतंकी वारदातों को रोकने लिए सभी कदम उठा रही है। समय-समय पर मॉक ड्रिल की जा रही हैं।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पूछताछ करने के लिए लखनऊ, यूपी रवाना हो गई है। स्पेशल सेल क टीम यूपी एटीएस द्वारा गिरफ्तार किए गए अलकायदा के आतंकियों से पूछताछ करेगी। स्पेशल सेल ने वर्ष 2015 में भी अलकायदा के पैन इंडिया मॉड्यूल का खुलासा किया था और छह आतंकियों को गिरफ्तार किया था।

स्पेशल सेल के पुलिस अधिकारियों के अनुसार यूपी एटीएस द्वारा गिरफ्तार आतंकी उमर अल मंडी का असली नाम सैयद अख्तर है। उसने अब अपना नाम बदल लिया है और अपना नाम उमर अल मंडी रख लिया है। ये आतंकी दिल्ली के केस में वांछित है। अली मंडी अलकायदा के आतंकी मोहम्मद शर्जील इस्मान का करीबी बताया जा रहा है। ये दोनों आपस में कई बार मिल चुके हैं।

Share this story