राहुल के बयान से सियासत गरमाई, कहा- केरल में मुद्दों की और उत्तर भारत में होती है सतही राजनीति, जानें, स्मृति ने क्या कहा

राहुल के बयान से सियासत गरमाई, कहा- केरल में मुद्दों की और उत्तर भारत में होती है सतही राजनीति, जानें, स्मृति ने क्या कहा

तिरुअनंतपुरम। केरल में अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड के दौरे पर गए कांग्रेस नेता राहुल गांधी के एक बयान से सियासत गरमा गई है। कांग्रेस नेता ने केरल और उत्तर भारत की राजनीति के बीच ऐसी तुलना की कि सबके निशाने पर आ गए। भाजपा नेताओं ने कांग्रेस नेता को अवसरवादी उत्तर भारत विरोधी पूर्वाग्रह से ग्रस्त बताया है।

राहुल ने कहा- केरल के लोग मुद्दों की राजनीति करते हैं, उत्तर भारत में होती है सतही राजनीति

दरअसल, राहुल गांधी ने तिरुअनंतपुरम में एक सभा में कहा, ‘पहले के 15 साल मैं उत्तर भारत से सांसद था। मुझे वहां दूसरे तरह की राजनीति का सामना करना पड़ता था। केरल आना मेरे लिए ताजगी भरा रहा, क्योंकि यहां के लोग मुद्दों की राजनीति करते हैं और सिर्फ सतही नहीं, बल्कि मुद्दों की तह तक जाते हैं।’

राहुल गांधी ने कहा- भाजपा माकपा की अगुआई वाली केरल सरकार पर हमला क्यों नहीं कर रही

राहुल गांधी ने रैली में भाजपा के साथ ही वाममोर्चा गठबंधन एलडीएफ पर भी प्रहार किया। राहुल ने कहा कि भाजपा माकपा की अगुआई वाली केरल सरकार पर हमला क्यों नहीं कर रही है। केरल के मुख्यमंत्री के दफ्तर पहुंचे मामले में नरम रुख अपनाए हुए है। सीबीआइ और ईडी सरकार पर हमला क्यों नहीं कर रही।

भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने कहा- राहुल गांधी का बयान उत्तर भारतीयों का अनादर

‘राहुल गांधी के इस बयान को भाजपा नेताओं ने उत्तर भारतीयों का अनादर बताया है। भाजपा नेताओं ने राहुल गांधी को अवसरवादी करार दिया, जबकि वह और उनके परिवार के सदस्य कई बार अमेठी से संसद पहुंचे। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट किया, ‘कुछ ही दिन पहले वह (गांधी) पूर्वोत्तर में थे, देश के पश्चिमी भाग के खिलाफ जहर उगल रहे थे। आज दक्षिण में वह उत्तर के खिलाफ जहर उगल रहे हैं। बांटो और राज करो की राजनीति काम नहीं करेगी, राहुल गांधी। लोगों ने इस तरह की राजनीति को खारिज कर दिया है। देखिए गुजरात में आज क्या हुआ।’

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेता पर किया प्रहार, कहा- एहसान फरामोश

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को कांग्रेस के गढ़ अमेठी में मात देने वाली भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने तुरंत उन पर निशाना साधा। उत्तर प्रदेश के अमेठी से तीन बार यानी 15 साल तक सांसद रहे राहुल को स्मृति ने अहसान फरामोश करार दिया। स्मृति ने ट्वीट किया, ‘अहसान फरामोश। इनके बारे में तो दुनिया कहती है-थोथा चना बाजे घना।’

विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा- भारत एक है, किसी क्षेत्र को नीचा न दिखाएं

विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी राहुल के इस बयान पर ट्वीट कर प्रहार किया। जयशंकर ने ट्वीट में कहा, ‘मैं दक्षिण भारत से हूं। मैं पश्चिमी राज्य से सांसद हूं। मैं उत्तर भारत में पैदा हुआ, वहीं पढ़ा और काम किया। मैं दुनिया के सामने पूरे भारत का प्रतिनिधित्व करता हूं। भारत एक है। कभी भी किसी क्षेत्र को नीचा न दिखाएं, कभी भी हमें विभाजित न करें।’

केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू ने कहा- अमेठी और उत्तर भारतीयों को बुरा नहीं कहें

केंद्रीय मंत्री किरन रिजिजू ने ट्वीट कर राहुल गांधी से कहा कि अमेठी और उत्तर भारतीयों को बुरा नहीं कहें। उन्होंने कहा कि अमेठी के लोगों ने आपके पूरे परिवार को बहुत मौका दिया। भारत के हर क्षेत्र के लोग अच्छे हैं अगर आप अच्छे हैं तो।

केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा- कांग्रेस और माकपा दोनों ही पाखंडी 

केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रल्हाद जोशी ने कांग्रेस और माकपा दोनों को पाखंडी बताया। उन्होंने कहा कि ये दोनों ही दल बंगाल और तमिलनाडु में साथ हैं और केरल में लड़ रहे हैं।

Share this story