Home उत्तर प्रदेश नोडल अधिकारी ने कोरोना संक्रमण, सिंचाई, बिजली, कृषि व बकाया गन्ना भुगतान...

नोडल अधिकारी ने कोरोना संक्रमण, सिंचाई, बिजली, कृषि व बकाया गन्ना भुगतान के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, दिये आवश्यक दिशा निर्देश

राजसत्ता पोस्ट

नोडल अधिकारी ने कोरोना संक्रमण, सिंचाई, बिजली, कृषि व बकाया गन्ना भुगतान के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, दिये आवश्यक दिशा निर्देश
————————-
मुजफ्फरनगर- 28 दिसम्बर 2020… शासन द्वारा नामित नोडल अधिकारी/उपाध्यक्ष गाजियाबाद विकास प्राधिकरण, श्रीमती कंचन वर्मा ने आज तहसील खतौली के सभागार मे कोरोना संक्रमण, सिंचाई, बिजली, कृषि व बकाया गन्ना भुगतान के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।


मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जनपद में 10 सीएचसी 43 पीएचसी तथा 275 सब सैन्टर है। उन्होने बताया कि 29 सैपिंलिंग टीम कार्य कर रही है तथा 28 आरआरटी टीम लगी हुई है। उन्होने बताया कि जिला अस्पताल में एक टूनेट मशीन तथा 6 एम्बुलेंस कोविड-19 के लिए लगी हुई है। उन्होने बताया कि अभी तक कोरोना से 7908 लोग संक्रमित हुए है। जिसमें हाईपर टैन्सन के 2418 मरीजो को सैम्पल लिया गया है जिसमें से 19 केस पाॅजिटिव आये। इसी प्रकार डाईबटिज के मरीजों के 5617 सैम्पल में से 27 लोग पाॅजिटिव आये तथा टी0बी0 के 1981 मरीजो में से 11 लोग कोरोना सें सक्रमित है। उन्होने कहा कि को-मोरबिड के 10016 सैम्पल में से कुल 57 लोग सक्रमित पाये गये।


मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि होम आईसोलेशन मरीजों के लिए गठित आरआरटी टीम पहले दिन, चैथे दिन तथा सातवे दिन विजीट करती है तथा होम आईसोलेशन में रह रहे मरीजों को नियमित फोन कर जानकारी ली जाती है। उन्होने बताया कि 127 लोगो को होम आईसोलेशन से कोविड फैसिंलिटी सैन्टर में सिफ्ट किया गया है। उन्होने बताया कि जनपद में माह दिसम्बर मेें 53 केन्टेन्टमैन्ट जोन है। 1045 सर्वे टीम लगी हुई है जिसमें 8676 घरों को कवर करते हुए 42154 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। उन्होने बताया कि जनपद में अभी तक दो लाख 86 हजार 425 सैम्पल लिये गये जिसमें आरटीपीसीआर के 1 लाख 33 हजार 248 सैम्पल, एनटीजेन के 1 लाख 51 हजार 700 तथा टूनेट के 1477 सैम्पल लिये गये। इन सभी सैम्पल मे से 7908 व्यक्ति कोरोना संक्रमित मिले है। जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों के 3121 तथा शहरी क्षेत्रों के 4787 व्यक्ति संक्रमित मिले है। उन्होने बताया कि द्वारिका सिटी में 208 बैड का एल-1 कोविड फैसिंलिटी सेन्टर, मुजफ्फरनगर मेडिकल काॅलेज मंे 340 बैड का एल-2 कोविड फैसिलिटी सेन्टर तथा 60 बैड का एल-3 कोविड फैसिलिटी सेन्टर संचालित है। मुजफ्फरनगर मेडिकल काॅलेज में ही पोस्ट कोविड वार्ड भी बनाया गया है। साथ ही भारत आयुर्वेदिक काॅलेज मंे 200 बैड का एल-2 फैसिलिटी सेन्टर तैयार है। जनपद में कोरोना से अभी तक 100 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी नेे कोल्ड चेन कोविड-19 वैक्सीन स्टोर के बारे में विस्तार से टीकाकरण की तैयारियों के बारे में जानकारी दी। उन्होने नोडल अधिकारी को बताया कि कोविड-19 वैक्सीनेशन हेतु नया कोल्ड चैन स्टोर 500 स्क्वायर फीट में बनकर तैयार है। शासन से तीन नए आईएलआर रेफ्रिजरेटर 425 लीटर के प्रथम चरण के प्राप्त हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में 12000 हेल्थ केयर स्टाफ का टीकाकरण होना है। उन्होंने नोडल अधिकारी को बताया कि द्वितीय चरण (सेकंड फेज) में तीन और आईएलआर प्राप्त हो जाएंगे उन्होनै बताया कि प्रथम फेज में हेल्थ केयर वर्कर के टीकाकरण जिसमें सरकारी एवं प्राइवेट चिकित्सक हेल्थ वर्कर सहित, आशा, ए एन एम आंगनबाड़ी कार्यकत्री हेतु 120 सत्रों की कार्य योजना तैयार की जा रही है।

 

इसके पश्चात नोडल अधिकारी ने सिंचाई विभाग की समीक्षा की। अधिशासी अभियन्ता ने बताया कि रजवाहांे की सिल्ट सफाई करायी गयी है जिसमे मनरेगा के अन्तर्गत भी कार्य कराया गया है। नोडल अधिकारी ने निर्देश दिये कि नहरो की टेल तक पानी अवश्य पहुंचना चाहिए। किसानों को सिंचाई से सम्बन्धित किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। उन्होने सिंचाई विभाग द्वारा जारी रोस्टर का भी निरीक्षण किया। उन्होने निर्देश दिये कि सिंचाई विभाग अपने निरीक्षण भवनों को ठीक करे उनकी मरम्मत कराये। विद्युत विभाग की समीक्षा करते हुए अधिशासी अभिन्यता ने बताया कि जनपद में 90 सब स्टेशन है। नये कनेक्शन देने का कार्य किया जा रहा है। उन्होने बताया कि नये कनेक्शन के लिए आॅनलाइन आवेदन की प्रक्रिया जारी है। 15285 लोगो ने नये कनेक्शन के लिए आवेदन किया है। अधिशासी अभियन्ता ने बताया कि विद्युत बिलों के बकाया भुगतान के लिए एक मुश्त समाधान योजना संचालित है। जिसमे किसान व अन्य लोग बिल जमा कराकर छूट प्राप्त कर सकते है।
कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि जनपद में 2 लाख 60 हजार किसान पंजीकृत है। जिसमें ज्यादातर सीमान्त किसान है। किसान क्रेडिट कार्ड का लक्ष्य पूर्ण है। उन्होने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अन्तर्गत 2 लाख 18 हजार किसानो को लाभ मिल रहा है। समय समय पर किसान गोष्ठी का आयोजन किया जाता है। फसल अवशेष प्रबन्धन योजना के अन्तर्गत किसानों को कृषि यन्त्रों का वितरण किया गया है। उन्होने बताया कि गन्ने की पत्ती को नष्ट करने के लिए डी-कम्पोजर का प्रयोग किसानों द्वारा किया जा रहा है। उन्होने बताया कि जनपद में गन्ना अनुसन्धान केन्द्र स्थापित है तथा किसानों का पोर्टल पर पंजीकरण कराया जा रहा है।
इसके पश्चात नोडल अधिकारी द्वारा बकाया गन्ना भुगतान एवं गन्ना आपूर्ति व्यवस्था की समीक्षा की गई। जिला गन्ना अधिकारी को निर्देशित किया कि किसानों को समय पर्ची की व्यवस्था की जाये तथा चीनी मिलों पूर्ण क्षमता के साथ चलवाये। इसी के साथ शासन की मंशानुरूप बढती हुई ठण्ड के दृष्टिगत सभी चीनी मिलो की यार्ड में किसानों एवं उनके पशुओं हेतु पानी, अलाव तथा आराम करने हेतु शैड की व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये गये। बैठक में जिला गन्ना अधिकारी को किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान त्वरित गति से कराने हेतु भी निर्देशित किया गया।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 प्रवीण चोपडा,, एसडीएम खतौली सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।