दुनिया के किसी कोने में नहीं उपलब्ध, मोटोरा में मैदान पर खिलाड़ियों को मिलेगी ये खास सुविधा

दुनिया के किसी कोने में नहीं उपलब्ध, मोटोरा में मैदान पर खिलाड़ियों को मिलेगी ये खास सुविधा

नई दिल्ली। विश्व क्रिकेट के इतिहास में 24 फरवरी 2021 बुधवार का दिन बेहद यादगार होने जा रहा है। दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम का उद्घाटन अहमदाबाद में होगा। भारत और इंग्लैंड की टीम यहां पर पहले डे नाइट टेस्ट मैच में खेलने उतरेगी। पिंक बॉल टेस्ट को ध्यान में रखते हुए यहां खिलाड़ियों को कुछ ऐसा सुविधा मिलेगी जो दुनिया के किसी भी और स्टेडियम में नहीं है।

गुलाबी गेंद होने की वजह से टेस्ट मैच के दौरान शाम के वक्त बल्लेबाजों को काफी परेशानी होती है। इस बात को ध्यान में रखकर खास तकनीक की इस्तेमाल किया गया है। एएनआई से बात करते हुए गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के अधिकारी ने बताया, “पिछले सात आठ महीने से लाइट से पड़ने वाली छाया को लेकर काम किया जा रहा है। छाया के मुताबिक ही मोटेरा के इस स्टेडियम में रौशनी आएगी। डे नाइट मैच के दौरान सांझ की रौशनी होती है जिसमें खेलना बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है।”

सूर्य अस्त होने के समय रौशनी थोड़ी अलग होती है। इस चीज को लेकर तालमेल बिठाने के लिए प्लड लाइट को ऑटो प्रोग्राम किया गया है। इसकी वजह से मैदान पर इस दौरान कोई परछाई नहीं देखने को मिलेगी। मैदान पर किसी भी तरह की परछाई नजर नहीं आने वाली है। यह सुविधा दुनिया के किसी भी कोने में उपलब्ध नहीं है।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने मैच से पहले कहा था, “पिंक बॉल उस लाल गेंद की तुलना में कहीं ज्यादा स्विंग करती है जिससे हमने खेला है। हमने जब बांग्लादेश के खिलाफ 2019 में एक मैच खेला तो यह अनुभव किया था। पिंक बॉल के खिलाफ खेलना काफी चुनौती भरा होता है चाहे पिच कैसी भी हो, खासकर शाम के वक्त को काफी मुश्किल होती है। एक बल्लेबाजी टीम के तौर पर अगर आप रौशनी में पारी शुरू कर रहे हैं तो पहले एक से डेढ घंटे काफी चुनौतीपूर्ण होते हैं।”

Share this story