तीर्थ पुरोहितों और पंडा समाज का कोई अहित नहीं होने देंगे: सीएम धामी

तीर्थ पुरोहितों और पंडा समाज का कोई अहित नहीं होने देंगे: सीएम धामी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड से तीर्थ पुरोहितों, हक हकूकधारियों और पंडा समाज का किसी प्रकार का अहित नहीं होने दिया जाएगा। भाजपा के वरिष्ठ नेता मनोहर कांत ध्यानी को संबंधित तीर्थ पुरोहितों के पक्ष को जानकर सरकार को पूरी रिपोर्ट देने का आग्रह किया गया है।

मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास में देवप्रयाग के विधायक विनोद कंडारी और केदारनाथ की पूर्व विधायक शैलारानी रावत के नेतृत्व में केदारनाथ व बदरीनाथ के तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से भेंट की। मुलाकात के दौरान देवस्थानम बोर्ड पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सभी पक्षों को सुनेगी और उनकी चिंताओं का समाधान करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि संवादहीनता नहीं होनी चाहिए। राज्य सरकार बातचीत के माध्यम से रास्ता निकालेगी। बातचीत से सभी शंकाएं दूर की जाएंगी और जहां सुधार की जरूरत होगी, राज्य सरकार सुधार करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बदरीनाथ मास्टर प्लान को मूर्त रूप देने से पूर्व भी सभी संबंधित पक्षों की बात सुनी जाएगी और उनकी शंकाओं का निवारण किया जाएगा। सभी के हित यथासंभव सुरक्षित रहेंगे। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने भी वार्ता के माध्यम से समाधान निकाले जाने पर सहमति व्यक्त की।

चार धाम यात्रा खोलने के लिए निकाली आक्रोश रैली निकाली

संवाद सहयोगी, गोपेश्वर। चार धाम यात्रा खोलने के लिए बदरीनाथ धाम में फिर एक बार साकेत तिराहे से नगर पंचायत तक आक्रोश रैली निकाली गई, जिसमें स्थानीय महिलाएं, नवयुवक ,पंडा पुरोहित, हकहकुकधारी शामिल रहे। वापस साकेत तिराहे पहुंचने के बाद सभी लोगों ने सरकार की सद्बुद्धि के लिए आचार्य विनय डिमरी की अगुवाई में विष्णु सहस्त्र नाम पाठ के साथ हवन यज्ञ किया। बदरी संघर्ष समिति के अध्यक्ष राजेश मेहता ने कहा कि अब चारधामों में आंदोलन काफी तेज हो गया है और अब भी सरकार यात्रा शुरू करने को लेकर कोई उचित समाधान नहीं लेती है तो हम आगे आमरण अनशन कर आत्मदाह करने को तैयार है।

Share this story