परिवर्तन यात्रा में रामनगर के लिए हरीश रावत ने किया ये खास एलान
परिवर्तन यात्रा में रामनगर के लिए हरीश रावत ने किया ये खास एलान

 रामनगर : पूर्व सीएम हरीश रावत परिवर्तन यात्रा के बहाने एक बार फिर रामनगर से अपनत्व जता गए। उन्होंने साफ कहा कि रामनगर से पढ़ाई की है। राजनीति की शुरुआत भी यहीं से हुई है। रामनगर में ही काफी शैतानियां भी की है। इसलिए वह रामनगर को कभी भूल नहीं पाए और न भूल पाएंगे। साथ ही कहा कि रामनगर से विधायक के दावेदार उनकी इस बात से अपनी दावेदारी के लिए लिए खतरा महसूस न समझें। खतरा महसूस करने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने अपने सधे अंदाज में पढ़ाई के दौरान उनके सहपाठी रहे रामनगर के पुराने लोगों व उनके साथ बिताए पलों का भी जिक्र किया। कार्यकर्ताओं व लोगों से कहा कि रामनगर से सटी विधानसभा की जिम्मेदारी कार्यकर्ताओं के जिम्मे हैं। कहा मैं आज जा रहा हूं, लेकिन फिर रामनगर आऊंगा।

नारेबाजी हुई तो हरीश रावत ने किया हस्तक्षेप

परिवर्तन यात्रा के पैठपड़ाव पर पहुंचते ही कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष रणजीत रावत, च्येष्ठ प्रमुख संजय नेगी के समर्थक मंच पर चढ़कर अपने नेताओं के पक्ष में नारेबाजी करने लगे। समर्थकों के शोर से परेशान पूर्व सीएम हरीश रावत को कुर्सी से उठकर आना पड़ा। उन्होंने उन्हें मंच से नीचे उतरने के लिए कहा।

तीनों दावेदारों की देवता से तुलना

मंच पर वरिष्ठ नेताओं के सामने अपने नेताओं के लिए होती नारेबाजी व आपस में टकराव की आशंका होने पर पूर्व सीएम हरीश रावत ने माहौल बदल दिया। माइक संभालते ही चुनाव के दावेदार तीन नेताओं का जिक्र वह देवता से करने से भी नहीं चूके। समर्थकों को शांत करने के लिए कहा कि जिस तरह पहाड़ में घरों में देवता नाचते हैं, उसी तरह आज हमारे घर कांगे्रस में भी तीन देवता नाचे हैं। पहले रणजीत देवता, दूसरे संजय देवता व तीसरे पुष्कर देवता। चुनाव के लिए सभी का जोश व उत्साह कम नहीं होना है। यह तो लड़ाई की अभी शुरुआत है। कहा कि संकल्प दो कि जिसे भी टिकट मिलेगा, सभी मिलजुलकर उसे ताकत देने का काम करेंगे।

ताकत दिखाने पहुंचे संभावित दावेदार

कांग्रेस की परिवर्तन रैली में विधान सभा चुनाव में दावेदारी करने वाले नेता ने अपने समर्थकों के साथ रैली के आने से पहले ही समर्थकों के साथ जुलूस की शक्ल में कोसी बैराज पहुचे बल्कि रैली के स्वागत के लिए अलग अलग स्थानों पर समर्थकों के साथ खड़े रहे। बेशक परवर्तन रैली की स्वागत को कांग्रेस ने अपनी एक जुटता प्रदर्शित की मगर कही न कही कांग्रेस के कार्यकर्ता अलग अलग गुटों में दिखाई दिए। प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत के समर्थक बीती रात से ही काफी संख्या में स्वागत की तैयारियां करने के साथ रविवार को बेलगढ़ के पास डटे रहे। तो संजय नेगी समर्थकों ने कोसी नदी के पुल पर अच्छी खासी तादात में परिवर्तन रैली का स्वागत किया। तो पूर्व दर्जा राज्य मंत्री पुष्कर दुर्गा पाल ने भी सेकड़ों लोगों के साथ जुलूस के रूप में पहुच कर रैली का स्वागत किया। कही हमारा नेता कैसा हो रणजीत रावत जैसा हो, कही हमारा विधायक कैसा हो पुष्कर दुर्गापाल जैसा हो, तो कही संजय नेगी जिंदा बाद के स्वर सुनाई दिए। सभा स्थल पर जहां चारो ओर रणजीत रावत के पोस्टर बैनर दिखाई दिए तो मंच से बाहर संजय नेगी ओर पुष्कर दुर्गापाल के बैनर दिखाई दिए। रानीखेत रोड पर भी इन तीनों नेताओ के पोस्टर ओर बैनर लगाने की होड़ दिखाई दी।

Share this story