तालिबान के बाद अब ये देश उड़ाएगा अमरीका की नींद, शुरु किया ऐसा खतरनाक काम
तालिबान के बाद अब ये देश उड़ाएगा अमरीका की नींद, शुरु किया ऐसा खतरनाक काम

सियोल। उत्तर कोरिया ने हथियारों के ईंधन का उत्पादन करने के लिए इस्तेमाल होने वाले अपने मुख्य परमाणु रिएक्टर के संचालन को फिर से शुरू कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र परमाणु एजेंसी ने अपनी सालाना रिपोर्ट में इसका दावा किया है। संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ लंबे समय से निष्क्रिय परमाणु कूटनीति के बीच उत्तर कोरिया ने खुले तौर पर अपने परमाणु शस्त्रागार को बढ़ाने की धमकी दी है।

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी की वार्षिक रिपोर्ट में उत्तरी प्योंगयांग के योंगब्योन में उत्तर कोरिया के मुख्य परमाणु परिसर में 5 मेगावाट के रिएक्टर को संदर्भित किया गया है। रिएक्टर प्लूटोनियम का उत्पादन करता है, जो अत्यधिक समृद्ध यूरेनियम के साथ परमाणु हथियार बनाने के लिए उपयोग किए जाने वाले दो प्रमुख अवयवों में से एक है।

आइएइए की शुक्रवार की रिपोर्ट में कहा गया है, 'जुलाई 2021 की शुरुआत से, रिएक्टर के संचालन के अनुरूप ठंडे पानी के निर्वहन सहित संकेत मिले हैं।' रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल फरवरी के मध्य से जुलाई की शुरुआत तक योंगब्योन की रेडियो केमिकल प्रयोगशाला के संचालन के संकेत मिले थे। इसमें कहा गया है कि उत्तर कोरिया की परमाणु गतिविधियां गंभीर चिंता का कारण बनी हुई हैं। इसके अलावा, 5-मेगावाट रिएक्टर और रेडियोकेमिकल प्रयोगशाला के संचालन के नए संकेत चिंता पैदा करने वाले हैं।

2009 में उत्तर कोरिया ने अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के निरीक्षकों को देश से बाहर कर दिया था। इसके बाद से एजेंसी की उत्तर कोरिया के योंगब्योन या अन्य स्थानों तक पहुंच नहीं है। एजेंसी ने कहा कि वह उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम में विकास की निगरानी के लिए उपग्रह इमेजरी और ओपन सोर्स सूचना का उपयोग करती है। योंगब्योन परिसर अत्यधिक समृद्ध यूरेनियम, अन्य प्रमुख परमाणु ईंधन का भी उत्पादन करता है। इस परिसर को उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रम और अनुसंधान का दिल कहता है। आइएइए की रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे संकेत मिले थे कि कुछ समय के लिए परिसर बंद था, लेकिन नियमित रूप से यहां वाहनों की आवाजाही देखी गई थी।

Share this story