व्हाट्सएप प्रमुख - गैरजवाबदेह निगरानी पर लगे रोक
K

नई दिल्ली: व्हाट्सएप प्रमुख ने कहा, पेगासस के गलत इस्तेमाल को लेकर हो रहे खुलासे इंटरनेट पर सुरक्षा में कमी का संकेत हैं। इसके लिए सभी कंपनियों व सरकारों को गंभीर कदम उठाते हुए एनएसओ समूह को जवाबदेह ठहराना चाहिए।

उन्होंने वैश्विक स्तर पर गैरजवाबदेह निगरानी तकनीक के इस्तेमाल पर रोक लगाने की भी सिफारिश की है। विल कैथकार्ट ने कहा कि व्हाट्सएप एंड टू एंड एंक्रिप्शन के जरिए लोगों की निजता बचाने का काम कर रहा है। लेकिन एनएसओ जैसे समूह इस सुरक्षा को जानबूझकर कमजोर कर रहे हैंं, जिसके सभी के लिए भयानक परिणाम हो सकते हैं।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायोग ने कहा, पेगासस जासूसी कांड कई देशों के लिए अत्यंत चेतावनीपूर्ण है और संबंधित देशों को निजता पर ऐसे हमलों के खिलाफ कड़े कदम उठाने चाहिए।

पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, राजनेताओं और अन्य बुद्धिजीवियों की जासूसी के लिए सॉफ्टवेयर का व्यापक इस्तेमाल दर्शाता है कि लोगों के मानवाधिकारों का अवैध रूप से दमन करने के लिए सबसे घटिया तरीके से  निगरानी तकनीक का दुरुपयोग किया गया है।

इस्राइली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस फोन में एक सामान्य व्हाट्सएप कॉल से भी पहुंच सकता है। जिसको कॉल की गई है, वह जवाब दे या न दे, उसके फोन में यह पहुंच जाएगा। यह फोन में विभिन्न लॉग एंट्री डिलीट कर देता है, जिससे इसकी मौजूदगी का पता नहीं चलता।

Share this story