तालिबान का साथ दे रहे पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका में एक्शन की मांग

तालिबान का साथ दे रहे पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका में एक्शन की मांग

वाशिंगटन। अफगानिस्तान के मसले पर पाक पूरी तरह से बेनकाब हो गया है। अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उसके खिलाफ कार्रवाई और प्रतिबंध की मांग तेजी से उठ रही है। हाल में पंजशीर में तालिबान के कब्जे के लिए पाकिस्तान के हवाई हमलों को लेकर अमेरिकी सांसद ने उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। अमेरिकी सांसद की यह प्रतिक्रिया इस जानकारी के बाद आई है कि पाक ने पंजशीर में तालिबान की मदद के लिए 27 हेलीकाप्टर भेजे और ड्रोन से हमले किए थे।

अमेरिकी सांसद एडम किसिंगर ने कहा है कि तालिबान आतंकियों को पाकिस्तान लंबे समय से मदद कर रहा है। इसके प्रमाण अब सीधे तौर पर भी मिलने लगे हैं। सांसद ने कहा है कि ये जानकारी पुष्ट करने के बाद अमेरिका पाकिस्तान की सभी तरह की सहायता पर रोक लगाए। यही नहीं उस पर प्रतिबंध भी लगाए जाएं।

सांसद किसिंगर ने यह बात फाक्स न्यूज पर अमेरिकी सेंट्रल कमांड के सूत्रों से प्रकाशित एक खबर के बाद कही है। जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान ने पंजशीर में स्पेशल फोर्स से भरे 27 हेलीकाप्टर और ड्रोन हमले करके तालिबान की पूरी मदद की है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के वर्षों का झूठ अब सामने आ गया है। उसने तालिबान को बनाया ही नहीं, उसकी पूरी तरह से सुरक्षा भी की है।

हाल ही में पंजशीर घाटी में तालिबान के साथ जंग लड़ रहे नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट के नेता अहमद मसूद ने पाकिस्‍तान को खूब खरी-खरी सुनाई थी। मसूद ने कहा था कि पाकिस्‍तान खुलकर तालिबान की मदद कर रहा है। मेरे परिवार के सदस्यों और सहयोगी फहीम दश्ती को मारने के लिए पाकिस्‍तान ने तालिबान की मदद की है। दुनिया के सभी मुल्‍क पाकिस्तान की इस कारगुजारी को देख रहे हैं फिर भी चुप हैं। पाकिस्तान पंजशीर में सीधे अफगानों पर हमला कर रहा है जिस पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय मूक दर्शक बना बैठा है।

Share this story