राष्ट्रीय

कारगिल विजय दिवस : भारतीय जांबाजों के अदम्य शौर्य की कहानी

राजसत्ता पोस्टकारगिल विजय दिवस : भारतीय जांबाजों के अदम्य शौर्य की कहानीसत्यजीत पंवार

आज से 21 बरस पहले 26 जुलाई की तारीख भारतीय वीर जवानों के अदम्य शौर्य के प्रमाण के तौर पर इतिहास की किताब में स्वर्मिण अध्याय के रूप में हमेशा-हमेशा के लिए दर्ज हो गई थी। करीब दो महीने तक चले युद्ध का अंत 21 जुलाई 1999 को भारत की जीत के रूप में हुआ था। दो महीने की इस अवधि में भारतीय जाबांजों ने पाकिस्तान की हर नापाक हरकत का ऐसा मुहंतोड़ जवाब दिया था, जिसे याद कर पाकिस्तान आज भी सिहर उठता है। भारतीय जांबाजों ने देश की सीमा में घुसे पाकिस्तानी सैनिकों को वापस खदेड़ दिया था। इस युद्ध में 527 वीर मातृभूमि पर न्यौछावर हो गए थे। पाकिस्तान के 2700 से ज्यादा सैनिकों को भारतीय वीरों ने मार गिराया था।

‘आपरेशन विजय’ के नाम से प्रसिद्ध कारगिल की लड़ाई ने जहां भारत की गौरवशाली सैन्य परंपरा में एक और सफलता का आयाम जोड़ा वहीं पाकिस्तान के लिए यह युद्ध एक और शर्मनाक हार का सबब बना। इस युद्ध ने पाकिस्तान को यह सीख भी दी कि, भारत की तरफ आंख उठाने के उसके नापाक मंसूबे कभी कामयाब नहीं हो सकते। इस युद्ध में मिली जीत से जहां दुनियाभर में भारतीय सैन्य ताकत का डंका बजा, वहीं पाकिस्तान पूरी तरह अलग-थलग पड़ गया। भारतीय सीमा में घुसपैठ के पाकिस्तान की हरकत की चारों तरफ आलोचना हुई। अमेरिका समेत दुनिया के प्रमुख देशों ने पाकिस्तान से पल्ला झाड़ लिया।

ऑपरेशन विजय भारतीय जाबांजों के अदम्य शौर्य की गाथाओं से भरा है। भारतीय वीरों की शहादत की गाथा सुन कर आज हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है। हर भारतीय का सिर इन वीरों के सम्मान में झुक जाता है। इस युद्ध में शहीद हुए हर भारतीय वीर की कहानी हम भारतीयों को मातृभूमि की रक्षा के लिए हर पल तैयार रहने की प्रेरणा देती है।

ऐसे हुई थी कारगिल युद्ध की शुरुआत

आजादी के बाद अलग देश के रूप में अस्तित्व में आए पाकिस्तान की भारत के प्रति दुर्भावना जग जाहिर है। आजादी के एक वर्ष बाद ही पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर में घुसपैठ के जरिए अपने नापाक इरादे जाहिर कर दिए थे। तब भारतीय जवानों ने पाकिस्तान के इरादे नेस्तनाबूद कर दिए थे।

मगर इसके बाद भी पाकिस्तान गाहे बगाहे अपनी बुरी नजर भारत पर डालता रहता था। सन 1971 में पाकिस्तान को इसकी इतनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी थी कि भारत ने उसके दो टुकड़े कर दिए थे। दुनिया के नक्शे पर बांग्लादेश के रूप ने एक नए देश का उदय भारत की वीरता का जीता जागता प्रमाण है।

मगर इसके बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया और लगातार भारत के खिलाफ षड़यंत्र रचता रहा। पाकिस्तान ने कश्मीर घाटी में आतंकियों की लगातार घिसपैठ जारी रखी। भारतीय वीर पाकिस्तान की इन हरकतों का हर बार मुहंतोड़ जवाब देते रहे। इस सबके होते सन 1998 में भारत ने परमाणु परीक्षण कर पूरी दुनिया को चौंका दिया।

भारत के परमाणु संपन्न होने की बात सामने आते ही पाकिस्तान की बौखलाहट फिर से सामने आ गई और उसने भारत के खिलाफ एक बड़े षड़यंत्र की शुरूआत कर दी। वर्ष 1999 के मई महीने की शुरुआत में भारतीय सेना को पाकिस्तानी सैनिकों के भारतीय चोटियों पर कब्जा करने की सूचना मिली। पाकिस्तानी सैनिक भारत की द्रास, तोलोलिंग, चाइगर हिल और कारगिल की पड़ाडियों पर बंकर बना कर छुपे बैठे थे।

उस समय भारतीय थल सेना प्रमुख जनरल वेदप्रकाश मलिक पोलैंड और चेक गणराज्य की यात्रा पर थे। उन्हें भारतीय राजदूत ने पहली बार पाकिस्तान की इस हरकत की खबर दी। नौ मई को पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सेनिकां पर गोलाबारी शुरू कर दी। पाकिस्तान की गोलाबारी में बड़ी मात्रा में भारतीय सेना का गोला बारूद तबाह हो गया।

इस घटना के बाद भारतीय सेना सतर्क हो गई और पाकिस्तान के खिलाफ ‘ऑपरेशन विजय’ शुरू कर दिया। भारत ने ऑपरेशन विजय की शुरुआत करते हुए सबसे पहले बटालिक क्षेत्र की दो चौकियों से पाकिस्तान को खेदड़ कर वहां फिर से तिरंगा लहराया। उसके बाद द्रास और तोलोलोंग सेक्टर को फिर से हासिल किया। इस दौरान भारतीय सेना के जिस अदम्य साहस का परिचय दिया वह सैन्य इतिहास में अद्वितीय है।

पाकिस्तानी सैनिक चोटी के ऊपर से भारतीयों पर गोला बारी और बम बरसा रहे थे, जिसके जवाब में भारतीय सैनिक बेहद विकट परिस्थितियों में आगे बढ़ते हुए कार्रवाई कर रहे थे। ऊंचाई पर होने के चलते पाक सैनिकों को भारतीय वीरों के एक-एक कदम की जानकारी मिल रही थी, ऐसे में भारतीयों रणबाकुरों के लिए दुश्मन तक पहुंचना बेहद कठिन था।

मगर जब मातृभूमि के प्रति अपनी जान से भी ज्यादा प्रेम हो तो फिर दुनिया की सबसे बड़ी मुश्किल भी आपके इरादों को नहीं डिगा सकती। बेहद कठिन हालातों में भारतीय सैनिकों ने ऊंचाई पर बैठे दुश्मन को नेस्तनाबूद कर तिरंगा फहराया जिसे पूरी दुनिया ने देखा। पाकिस्तान के कब्जे से टाइगर हिल को मुक्त करने में भारतीय सैनिकों ने 11 घंटे की लड़ाई लड़ी। इसी तरह अन्य चोटियों पर भी तिरंगा लहराने लगा। और आखखिरकार 21 जुलाई का वो दिन आया जब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने ऑपरेशन विजय के सफल होने की जानकारी देकर भारत की जीत का ऐलान किया।

इस युद्ध में भारतीय सेना ने आर्टिलरी तोप, मोर्टार और रॉकेट लॉन्चरों से हजारों की संख्या में बम और राकेट फायर किए। वायु सेना के मिग−27 और मिग−29 लड़ाकू विमानों ने इस युद्ध में अपनी ताकत का लोहा मनवाया। पाकिस्तान को कारगिल युद्ध में सन 1971 में भी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा।

कारगिल में भारतीय वीरों ने जिस जीवट का परिचय दिया उसकी एक बानगी इससे भी समझी जा सकती है कि कारगिल की ऊंचाई समुद्र तल से 16000 से 18000 फीट ऊपर है। ऐसी ऊंचाई पर हवा का घनत्व बेहद कम होता है और सांस लेने में बहुत कठिनाई होती है। ऐसे हालातों में भारतीय जवानों ने पूरे साहस के साथ पाकिस्तान की नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया।

कारगिल युद्ध में परिस्थितियां हर तरफ से भारत के प्रतिकूल थीं। ऊंची पहाडियों पर दुश्मन पहले ही बंकर बना चुका था। भारी मात्रा में गोला बारूर जमा कर चुका था। भारतीय जवानों के एक-एक मूवमेंट की पाकिस्तानी सैनिकों को पल-पल की अपडेट मिल रही थी। ऐसी विकट परिस्थितियों में कोई भी देश युद्ध लड़ने के पहले कई बार सोचेगा। मगर भारतीय सेना के पराक्रमी योद्धाओं ने इन विकट हालातों को चुनौती के रूप में स्वीकार किया और शानदार जीत हासिल की। भारतीय सैनिकों को साबिक कर दिया कि क्यों उन्हें सर्वश्रेठ माना जाता है। कारगिल विजय दिवस की 21 वीं वर्षगांठ पर एक बार फिर भारतीय जांबाजों की शौर्य को सलाम।

( लेखक HNN24x7 टीवी चैनल में सम्पादक हैं )